हम याद करें कैसे उनको, हम अब भी भूखे सोते हैं.....

Author: दिलीप /


वो करते होंगे याद उन्हे, जो  स्वर्ण महल मे रहते हैं...
हम टूटे मिट्टी के घर में, गर्मी और पानी सहते हैं...
या वो जो अधनंगे होकर, हैं बाज़ारों मे नाच रहे...
हम टूटी खटिया पड़े हुए, दुर्भाग्य के पोथे बाँच रहे...

कुछ मिश्री मेवा फेंक रहे, हम इक रोटी को रोते हैं...
हम याद करें कैसे उनको, हम अब भी भूखे सोते हैं.....

शायद वो सच्चे देशभक्त, जो चूर नशे में उछल रहे...
हम रोज़ उन्ही की गाड़ी के, नीचे आकर हैं कुचल रहे...
या फिर वो जिनकी इज़्ज़त भी, अधखुले वस्त्र से होती है...
और एक हमारी इज़्ज़त है, घर मे भी डर कर सोती है...

वो जिन महलों मे सोते हैं, हम उनके पत्थर ढोते हैं...
हम याद करें कैसे उनको, हम अब भी भूखे सोते हैं.....

शायद वो ही भारत वासी,जो भारत को ही भूल चले...
पूरब को विधवा करके जो, पश्चिम मे लेके सूर्य चले...
अब पुरवाई  जब आती है, जोड़ों मे दर्द ही लाती है...
कंपित कर देती शीत लहर, बारिश भी छत टपकाती है....

सावन के ये खाली बादल, बस मन मे काँटे बोते हैं...
हम याद करें कैसे उनको, हम अब भी भूखे सोते हैं.....

कल फाँसी, गोली झेल गये, वो आज यहाँ गर होते भी...
देश ना रहता याद उन्हें, वो भाग्य को अपने रोते ही...
इक वो थे औरों की खातिर, हँसके फन्दो पे झूल गये...
हम लाचारी या मस्ती मे, उन बलिदानो को भूल गये...

हम बम बंदूकों से मरते, या भूख से जानें खोते हैं....
हम याद करें कैसे उनको, हम अब भी भूखे सोते हैं.....

19 टिप्पणियाँ:

Bhanu choudhary ने कहा…

hamesa ki tarah nice n perfect :-)

वीनस केशरी ने कहा…

या फिर वो जिनकी इज़्ज़त भी, अधखुले वस्त्र से होती है...
और एक हमारी इज़्ज़त है, घर मे भी डर कर सोती है...


उम्दा बात कही

एक निवेदन है
"जो लाइन मैंने कोट की है आपके ब्लॉग से ही कॉपी की है"

आप समझ गये होंगे मै क्या कह रहा हूँ :)

दिलीप ने कहा…

sir ab kya kar sakte hain...koshish kare rehte hain... :D koi upay ho to zarur batayein...

Amit ने कहा…

awesome!! nice read

राजेन्द्र मीणा ने कहा…

या फिर वो जिनकी इज़्ज़त भी, अधखुले वस्त्र से होती है...
और एक हमारी इज़्ज़त है, घर मे भी डर कर सोती है..


bahut bhadiya ......sateek sataya

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

वाह फिर से एक लाजवाब कविता ... फिर से एक झकझोर देने वाली रचना ... आप तो सच मुच कमाल हैं ...

मो सम कौन ? ने कहा…

दिलीप जी,
इन आजादी के unsung heroes को प्रणाम और आपकी लेखनी को भी। कितनी विचित्र बात है न कि जो असली कुर्बानी कर गये, उनको याद करने वाले कितने थोड़े रह गये हैं। सारी वाहवाही को हाईजैक कर लिया दो तीन नामों ने।
झक्झोरने वाली कविता।
सच में दिल की कलम से लिखी हुई और दिल तक उतर गई।
आभार।

honesty project democracy ने कहा…

आपके इस बिचारोत्तेजक रचना के लिए आपका धन्यवाद / आशा है आप इसी तरह ब्लॉग की सार्थकता को बढ़ाने का काम आगे भी ,अपनी अच्छी सोच के साथ करते रहेंगे आपके इस सुन्दर और संदेशात्मक कविता की जितनी तारीफ की जाय कम है / आपके इस प्रयास के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद / ब्लॉग हम सब के सार्थक सोच और ईमानदारी भरे प्रयास से ही एक सशक्त सामानांतर मिडिया के रूप में स्थापित हो सकता है और इस देश को भ्रष्ट और लूटेरों से बचा सकता है /आशा है आप अपनी ओर से इसके लिए हर संभव प्रयास जरूर करेंगे /हम आपको अपने इस पोस्ट http://honestyprojectrealdemocracy.blogspot.com/2010/04/blog-post_16.html पर देश हित में १०० शब्दों में अपने बहुमूल्य विचार और सुझाव रखने के लिए आमंत्रित करते हैं / उम्दा विचारों को हमने सम्मानित करने की व्यवस्था भी कर रखा है / पिछले हफ्ते अजित गुप्ता जी उम्दा विचारों के लिए सम्मानित की गयी हैं /

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

vehatreen iske liye koi shabd nahin

abhar

pink_paliwal ने कहा…

bhaut hi khub likha apne...satyvachan he sare

Shikha Deepak ने कहा…

हमेशा की तरह तेजधार कलम से निकली बेहतरीन भावाव्यक्ति।

pink_paliwal ने कहा…

Dear Dilip ji..bahut sundar likhte he aap...me bht prabhavit hu apki rachnao se to socha ki me b jara thoda praytan karu or khud b kuchh likhna shuru karu..pehli baar likha he apke tippani chahti hu usme....mere plus or minus points
http://paliwalpushpa.blogspot.com/

संजय भास्कर ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

nilesh mathur ने कहा…

सुन्दर रचना! सुन्दर विचार !

Shekhar Suman ने कहा…

bahut hi khubsurat rachna...
i simply adore you...
u r awesome...
-------------------------------------
mere blog par is baar
तुम कहाँ हो ? ? ?
jaroor aayein...
tippani ka intzaar rahega...
http://i555.blogspot.com/

रोहित ने कहा…

yeh hindustan ka kadwa sach hai!
aapne bahut acche dhang se avivyakt kiya hai.
#ROHIT

Archana ने कहा…

निशब्द हूँ......
सुधार कार्य ----
उन्हे ,जो स्वर्णमहल ....
खटिया पर पडे हुए ...
पुरवाई..
शीत लहर ...

दिलीप ने कहा…

Dhanyawad Archana ji....

आदेश कुमार पंकज ने कहा…

बहुत सुंदर

एक टिप्पणी भेजें