एक साँप, धीरे से जा बैठा दिल मे.....

Author: दिलीप /


एक साँप, धीरे से जा बैठा दिल मे...
बोला, जगह नही है आस्तीन के बिल मे....
कहने लगा, मैं अब संत हो चुका हूँ...
सारा ज़हेर अपना, कबका खो चुका हूँ....
मैने बोला, साँप हो कहाँ सुधरोगे....
जब भी उगलोगे, ज़हेर ही उगलोगे....
वो बोला, साप हूँ तभी तो जी रहा हूँ...
बड़ी देर से, तुम्हारे दिल का ज़हेर पी रहा हूँ....
देखो मेरा रंग जो हरा था, अब नीला है...
अरे आदमी...तुम्हारा ज़हेर तो मेरे ज़हेर से भी ज़हरीला है....


26 टिप्पणियाँ:

गिरीश बिल्लोरे ने कहा…

बहुत उम्दा
पहली बार आया हूं अच्छा लगा

rajeevspoetry ने कहा…

बहुत सुंदर.

Archana ने कहा…

...मेरे डसने के बाद आदमी जिन्दा नही बचता,
मगर तुम्हारे डसने के बाद तो,
जीते-जी ही- मरते रहता है ......

Shekhar Suman ने कहा…

bahut hi behtareen...kya baat hai...
mere blog par is baar..
नयी दुनिया
jaroor aayein....

Suman ने कहा…

nice

वाणी गीत ने कहा…

अरे आदमी ...तेरा जहर तो सांप के जहर से भी जहरीला है ...
क्या बात कही कविता में ...
बहुत खूब ...!!

Udan Tashtari ने कहा…

क्या बात है.बहुत खूब!

raj ने कहा…

kafi sunder aur mazedaar rachna hai........

subhkamnayein....

कविता रावत ने कहा…

Aaj ke aadmi ke badalti fidrat ko bakhubi bayan karti aapki rachna samyjik pradrashya ko jhakjhorti hai..
Bahut shubhkamnayne.

just explore me ने कहा…

bhaut khoob badi saadgi se saralta se itni gehri baat kehne ke liye saadhuwaad !

श्रद्धा जैन ने कहा…

waah aapko padhkar bahut achcha laga
saanp ka kam se kam rang to badla
insaan ne wo bhi nahi kiya..... zahar dil mein bhara hai

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

बहुत सुन्दर कविता है ! सच है कि इन्सान आज सांप से भी ज़हरीला बन चूका है !

दिलीप ने कहा…

bahut bahut Abhar mitron..itna protsahan dene ke liye...

Uma Shankar Yadav ने कहा…

ab to yahi kwasih hain ki sap kat le par abmi na
kyunki saap ka to ilaz hota hai, par aadmi kate to har mod par katta hi rahega,

Uma Shankar Yadav ने कहा…

sir ji agar aapko time mile to mere blog par maine bhi kabhi man se ek article likha tha uske baad to sare aadehy hi likh paya hu
just go thru""Think""
aur sir us par ek kavita likh dijiye maza aa jaye

Shekhar kumawat ने कहा…

bahut khub



shekhar kumawat
http://kavyawani.blogspot.com/

माधव ने कहा…

सच कहा , साँप से डरने की जरुरत नहीं है

ankita ने कहा…

waah dileep ji...
kya baat kahi hai...
bahut khoob...

HTF ने कहा…

अरे आदमी

दिलीप ने कहा…

Dhanyawad mitron....

M VERMA ने कहा…

वाकई जहरीला है
पर दिल में उतारना ही होगा

neera ने कहा…

तभी तो कहते हैं आदमी का काठा पानी भी नहीं मानता...

राइना ने कहा…

Bahut achchi lagi kavita.

राजेन्द्र मीणा ने कहा…

बहुत खूब श्रीमान .....आपकी किसी भी रचना की तारीफ़ के लिए शब्द कम पड़ जाते है ....

Sandhya ने कहा…

Bahut achcha likha hai Dileep..likhte rahiye, isi tarah, is se behtar
Sandhya

pravesh sharma ने कहा…

👉 सांपों के मुकद्दर में
वो ज़हर कहां,
जो इंसान आजकल सिर्फ
बातों में ही उगल रहा है !
साँप तो कोने में बैठा
हँस रहा है !
क्योकि
इन्सान ही आजकल
इन्सान को डंस रहा है।।

एक टिप्पणी भेजें