अब तो संयम का हार तजो, मैं बस परिवर्तन चाह रहा...

Author: दिलीप /

2/2/1
Edit EntryEdit TagsAdd to Memories
http://blogs.ad.infosys.com/userpic/14313/39367

 माता के मस्तक पे शत्रु, आतंक की आँधी चला रहा...
भाई तेरा छलनी होके, सीमा पे बेसुध पड़ा हुआ...
कब तक गाँधी आदर्शों से, यूँ झूठी आस दिखाओगे...
कब रक्त पियोगे दुश्मन का, कब अपनी प्यास बुझाओगे...

मैं कर्मों मे आज़ाद भगत, लक्ष्मी के लक्षण चाह रहा...
अब कुछ तो रक्त की बात चले, मैं बस परिवर्तन चाह रहा...

शृंगार पदों को छोड़ कवि, अब अंगारों की बात करें...
शोषित समाज के दबे हुए, कुछ अधिकारों की बात करें...
जब कलम चले तो मर्यादा, कुछ सत्य की उसमे गंध मिले...
इतिहास की काली पुस्तक मे, अब कलम की कालिख बंद मिले...

व्यापार कलम का छिन्न करे वो सत्य सुदर्शन चाह रहा...
कलम क्रांति आधार बने, मैं बस परिवर्तन चाह रहा...

इन नेताओं के डमरू पे कब तक बंदर बन उछ्लोगे...
कब तक आलस्य मे पड़े हुए दुर्भाग्य को अपने बिलखोगे..
कोई भाषा तो धर्म कोई, कोई जाति पे बाँटेगा...
कब घोर कुँहासे बुद्धि के तू ग्यान अनल से छाँटेगा...

इस राजनीति के विषधर का, मैं तुमसे मर्दन चाह रहा...
भारत से हृदय सुसज्जित हो, मैं बस परिवर्तन चाह रहा...

कुछ के तो उदर है भरे हुए, ज़्यादातर जनता भूखी है...
आँखों की नदियाँ भरी हुई, बाहर की नदियाँ सूखी है...
बचपन आँचल मे तड़प रहा, माँ की आँखें पथराई हैं...
क्या राष्ट्र सुविकसित बनने के, स्वपनों की ये परछाई है...

उनसे, जिनके घर भरे हुए, मैं थोड़ा कुंदन चाह रहा...
फिर स्वर्ण का पक्षी राष्ट्र बने, मैं बस परिवर्तन चाह रहा...

कब तक भगिनी माताओं के, अपमान सहोगे खड़े खड़े...
कब तक पुरुषार्थ यूँ रेंगेगा, औंधे मुँह भू पे पड़े पड़े...
कब तक भारत माता को यूँ निर्वस्त्र हो जलते देखोगे...
आख़िर कब तक सौभग्य सूर्य तुम अपना ढलते देखोगे...

पानी से भारी धमनियों मे कुछ रक्त के दर्शन चाह रहा...
अब तो संयम का हार तजो, मैं बस परिवर्तन चाह रहा...

16 टिप्पणियाँ:

Vishal Kashyap ने कहा…

wah!!!!

rom rom me nayi tajgi bhar di apne........

kafi achchi bhavabhivyakti........

badhai.......

वाणी गीत ने कहा…

पानी से भरी धमनियों में रक्त के दर्शन चाह रहा ...
वीर रस सी तेजस्वी प्रेरित करती ये पंक्तियाँ लाजवाब है ...
काश की हम भी कुछ ऐसा ही लिख पाते ...कर पाते इस देश के लिए
बहुत बढ़िया ...!!

M VERMA ने कहा…

बहुत खूबसूरत रचना
आपकी रचना में सार्थक आँच है

संजय भास्कर ने कहा…

kash hummme bhi wo shakti hoti kuch karne ki

ललित शर्मा ने कहा…

वाह! उर्जा से ओत-प्रोत बहुत अच्छी रचना है।
आभार

कविता रावत ने कहा…

देशप्रेम में सरोबार ओजपूर्ण रचना ...
...देशप्रेम का रगों में रस घोलती हुए सोई हुई चेतना को जागती हुई...
साभार
सुन्दर सरहनीय और प्रशंसनीय सार्थक प्रयास..

nilesh mathur ने कहा…

मैं बस परिवर्तन चह रहा ! वाह ! क्या बात है!

दिलीप ने कहा…

bahut bahut shukriya Mitron...

सुमन'मीत' ने कहा…

जोश भी है रोष भी है लेखन में आपके में उदघोष भी है

Shekhar Suman ने कहा…

bahut hi josh se bhari kavita....
sharir ka rakt teji se daudne laga..
achhi rachna dene ke liye dhanyawaad...aur likhne ke liye badhai...
regards
http://i555.blogspot.com/

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

aaj pahli baar aapke blog par aana hua aur apki rachna padh kar shayed yahi kahna kafi hoga ki aana saarthak ho gaya. aap jaise nau-jawaano se aisi hi ushma ki aisi socho ki umeed ki ja sakti hai aur apke vichar padh kar khushi hui..aisa hi kuch maine apni ek post par likha tha ..link de rahi hu...http://anamika7577.blogspot.com/2010/03/blog-post_22.html

Babli ने कहा…

बहुत ही सुन्दर, शानदार और लाजवाब रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

सुनील शर्मा ने कहा…

उनसे, जिनके घर भरे हुए, मैं थोड़ा कुंदन चाह रहा...

पानी से भारी धमनियों मे कुछ रक्त के दर्शन चाह रहा...
अब तो संयम का हार तजो, मैं बस परिवर्तन चाह रहा...

bahut khoob farmaya hai aapne wakai dhamaniyo mein jame huye rakt ka sanchar shuru ho gaya hai

बेनामी ने कहा…

bahut koob

Mohan Singh Chauhan ने कहा…

कुछ के तो उदर है भरे हुए, ज़्यादातर जनता भूखी है...
आँखों की नदियाँ भरी हुई, बाहर की नदियाँ सूखी है...
बचपन आँचल मे तड़प रहा, माँ की आँखें पथराई हैं...
क्या राष्ट्र सुविकसित बनने के, स्वपनों की ये परछाई है...
dil ko chhu liya................

Sandeep Tiwari ने कहा…

sun k baju fadak uthey

एक टिप्पणी भेजें