इंक़लाब का दीप जलाकर, स्वयं अमर हो जाती कविता....

Author: दिलीप /


कभी हृदय मे कुछ भारी सी, दबी दबी रह जाती कविता...
कभी उमड़ कर सिसक सिसक कर आँखों से बह जाती कविता...

कभी पीठ, माथे पे थपकी, कभी शहद की बूँद सी टपकी...
गोदी ले, पुचकार प्यार से, अम्मा सी बन जाती कविता...

कभी किसी टूटे ऐनक मे, कभी किसी की झुकी कमर मे...
कभी किसी ठंडे चूल्हे मे, चुपके से जल जाती कविता...

कभी किसी कोरे काग़ज़ पे इल्ली बन के टपक गयी थी...
बंद खोल मे रेंग रेंग कर तितली मे ढल जाती कविता...

कभी कभी दिल के पर्वत से टकरा कर चूरा बन जाती...
कभी दुखों की, कभी सुखों की छन्नी मे छन जाती कविता...

कभी खून की कुछ बौछारे, कलम उसी मे नहा रही हो...
इंक़लाब का दीप जलाकर, स्वयं अमर हो जाती कविता....

30 टिप्पणियाँ:

sangeeta swarup ने कहा…

कभी खून की कुछ बौछारे, कलम उसी मे नहा रही हो...
इंक़लाब का दीप जलाकर, स्वयं अमर हो जाती कविता....

बहुत बढ़िया लिखते हो...पढ़ कर कुछ देर तक तो शब्दों में ही खो जाते हैं.....शुभकामनायें

'उदय' ने कहा…

...बेहतरीन !!!

राजेन्द्र मीणा ने कहा…

कभी पीठ, माथे पे थपकी, कभी शहद की बूँद सी टपकी...
गोदी ले, पुचकार प्यार से, अम्मा सी बन जाती कविता...

बहुत खूब मित्र ,,,शानदार लिखा है सब कुछ सधा हुआ सा ....हर शब्द अपने में बेहतरीन {कभी सिसक कर उमड़ आँखों से बह जाती कविता...}

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

बेहतरीन रचना ... लाजवाब पंक्तियाँ
कभी किसी टूटे ऐनक मे, कभी किसी की झुकी कमर मे...
कभी किसी ठंडे चूल्‍हे मे, चुपके से जल जाती कविता...

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

ये तो कण कण में भगवान की तरह कण कण में कविता हो गई... लाजवाब, दिलीप!

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

कभी खून की कुछ बौछारे, कलम उसी मे नहा रही हो...
इंक़लाब का दीप जलाकर, स्वयं अमर हो जाती कविता.... शिल्पकार के शब्द शिल्प से सविता बन जाती है कविता …………………दिलीप भाई और आप उन शिल्पकारो मे से एक हैं………… सुन्दर! जय जोहार (इसका मतलब अपनी क्षेत्रीय बोली मे नमस्कार से है।)

दीपक 'मशाल' ने कहा…

कविता के बनने का इससे खूबसूरत और रवानीमय चित्रण कम ही देखा है दिलीप भाई.. बधाई..

Sonal Rastogi ने कहा…

bahut badiyaa

Udan Tashtari ने कहा…

बंद खोल मे रेंग रेंग कर तितली मे ढल जाती कविता

-गजब कल्पनाशीलता का परिचय दिया.बहुत खूब दिलीप...वाह!

दिलीप ने कहा…

Adarneey Sameer ji Dipak ji...Sonal.ji...Suryakaant ji...Indraneel ji...Rajendra sahab...Uday ji...Sangeeta ji...bahut bahut aabhaar aapke aasheesh vachno ke liye...

सुनील दत्त ने कहा…

रोचक कबिता

अमित शर्मा ने कहा…

कभी किसी टूटे ऐनक मे, कभी किसी की झुकी कमर मे...
कभी किसी ठंडे चूल्‍हे मे, चुपके से जल जाती कविता...

... लाजवाब पंक्तियाँ

kunwarji's ने कहा…

बहुत बढ़िया...कवितामयी कर दिया सब कुछ!

कल्पनाओं को विस्तार दिया और फिर कविता में बाँध दिया......

कुंवर जी,

संजय भास्कर ने कहा…

दिल को छू रही है यह कविता .......... सत्य की बेहद करीब है ..........

Parul ने कहा…

kavita ko ek naya aayam diya aapne :)

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कभी किसी टूटे ऐनक मे, कभी किसी की झुकी कमर मे...
कभी किसी ठंडे चूल्‍हे मे, चुपके से जल जाती कविता...

संवेदनशील ... बहुत ही भावपूर्ण कविता .....

ankita ने कहा…

bahut hi sundar bhaav diye hain aapne kavita ko...
kavita pe kavita padhna sach me ek anokha aur dilchasp anubhav raha...
aapki is anoothi soch ko mera salaam...!!!

sunil kumar ने कहा…

sundar abhivyakti hai vicharon ki vastav men aap ke pas vicharon ka bhandar hai ,badhai ho

antas ने कहा…

i love all your writings

abhi ने कहा…

dilip bhai pehle to ye bata dun mujhe aapke blog ka template itna pasand hai ki kya kahun...
jab bhi aata hun blog pe, bada achha lagta hai

aur ab ye kavita....mast likha hai aapne...kya kavita hai..bahut achhi

nilesh mathur ने कहा…

बहुत खूब !

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

कभी पीठ, माथे पे थपकी, कभी शहद की बूँद सी टपकी...
गोदी ले, पुचकार प्यार से, अम्मा सी बन जाती कविता...

बहुत खूब......!!

Babli ने कहा…

दिल को छू गयी ! बहुत ही सुन्दर और लाजवाब रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ है! बधाई!

राजेन्द्र मीणा ने कहा…

फिर से पढ़ा तो लगा ,,,,,,

'बंद खोल मे रेंग रेंग कर तितली मे ढल जाती कविता'

अद्दभुत सृजन ...

अर्चना तिवारी ने कहा…

अच्छी रचना

Apanatva ने कहा…

kya likhte hai aap.......itna kavitamay .......bah hee gaye dhara pravah me........

ati sunder.

Shekhar Suman ने कहा…

bahut khub dileep bhai....

Shekhar Suman ने कहा…

aur haan mere blog par...
तुम आओ तो चिराग रौशन हों.......
regards
http://i555.blogspot.com/

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

अति सुंदर!
शब्द इस तरह बह रहे हैं जैसे नदी की निर्मल धारा ,

कभी किसी टूटे ऐनक मे, कभी किसी की झुकी कमर मे...
कभी किसी ठंडे चूल्‍हे मे, चुपके से जल जाती कविता...

ठंडे चूल्हे में कविता का जल जाना मन को छू गया,
आप बधाई के पात्र हैं

Pratul ने कहा…

sheershak se lakar ant tak shreshthtam bhaav waalii kavitaa. laajawaab, kalam tod aur ojmayi bhaavon pravaah mayi shabdaawali. kavitaa ko achchhaa roop aur aakaar deti shaili.

एक टिप्पणी भेजें