ये बंदर कहीं कल इंसान तो नही बन जाएगा...

Author: दिलीप /


कल मुंडेर पे एक बंदर था मुझे दिखाई दिया...
शांत बैठा था, शायद खुद मे ही कहीं गुम था...
तभी एक बंदरिया ने उसे हल्के से था भींचा...
उस ध्यान की डोर को था अपनी ओर खींचा...

एक नन्हा भी बंदरिया की गोद से चिपका था...
माँ की छाती से मासूम प्यार से चिपटा था...
फिर वो दोनो जम कर अठखेलियाँ करते रहे...
ज़िंदगी के ख़ालीपन को प्यार से भरते रहे...

फिर कहीं से बंदर एक रोटी का टुकड़ा लाया...
फिर तीनों ने मिलकर उसे बड़े प्यार से खाया...
सब कुछ देख जाने क्यूँ मेरा मन भर आया...
शायद उन्होने एक परिवार का मतलब सिखाया...

फिर सोचा की हम भी कभी बंदर ही तो थे...
उस खुशहाली भरी दुनिया के अंदर ही तो थे...
जाने किसने प्रकृति को था क्या सुझा दिया...
कि उसने हमें बंदर से ये इंसान बना दिया...

पहले तो हमारा अपनापन ही खुद से डर गया...
फिर धीरे से इन आँखों का पानी भी मर गया...
अब तो हम दूसरो की रोटी भी छीन लेते हैं...
नोच खाते है फिर हड्डियाँ तक बीन लेते हैं...

इन बंदरों को देखो ये अभी तक एक साथ हैं...
पर अब दिल मे खल रही बस यही एक बात है...
कहीं फिर वक़्त अपना रंग तो नहीं दिखाएगा...
ये बंदर कहीं कल इंसान तो नही बन जाएगा...

23 टिप्पणियाँ:

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

आपकी चिंता जायज है, मुझे भी ऐंसा ही डर है :)

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

बन्दर इन्सान बन जाये, कोई गल नही कब आयेगा वह पल जब इन्सान ऐसा "बन्दर" बने सुन्दर अभिव्यक्ति!

M VERMA ने कहा…

रोटी छीनना जब हम सीखे तब इन्सान बन गये

SKT ने कहा…

इन्सान की सोहबत में नहीं पड़े तो बंदरपना बचा रहेगा!!

abhi ने कहा…

वाह कितनी गहरी बात कह दी आपने....

राजेन्द्र मीणा ने कहा…

गहरी और सच्ची बात कहा दी ........वो भी एक सुन्दर कविता के तरीके से .....बहुत खूब

aarya ने कहा…

इनमे और हमे बस फर्क इतना है
इनकी पूंछ लम्बी और
हमारे कर्मों कि दास्ताँ लम्बी है
रत्नेश त्रिपाठी

nilesh mathur ने कहा…

वाह! बहुत सुन्दर, भगवान् इन्हें बन्दर ही बनाए रखे तो ठीक है!

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

आओ मिरल के दुआ माँगें... अगर तरक्की इसी को कहते हैं, तो ये बंदर, बंदर ही बने रहें...

sangeeta swarup ने कहा…

कहीं ये बन्दर इंसान तो नहीं बन जायेगा.....बहुत सार्थक बात.....संवेदनशील रचना

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बहुत खूब ................ यह डर जायज है !!

दिलीप ने कहा…

bhav samjhne ke liye bahut bahut abhaar..

'उदय' ने कहा…

... बेहतरीन !!!

देवेश प्रताप ने कहा…

क्या बात है !!!.....बेहतरीन रचना .

आदेश कुमार पंकज ने कहा…

बहुत सुंदर
http://nanhen deep.blogspot.com/
http://adeshpankaj.blogspot.com/

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

बेहतर है कि बन्दर बन्दर ही रहे, इंसान बनेंगे तो खुद से शर्मसार हो जायेंगे ! बढ़िया रचना !

sandhyagupta ने कहा…

Karara vyangya.Badhai.

Shekhar Suman ने कहा…

bahut achha vyangya....
yun hi likhte rahein...
-----------------------------------
mere blog mein is baar...
जाने क्यूँ उदास है मन....
jaroora aayein
regards
http://i555.blogspot.com/

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सार्थक बात.....संवेदनशील रचना

आशुतोष पार्थेश्वर ने कहा…

यह जो आग और गुस्सा है,जाएज है। यह बना रहे, यही चाहूँगा। मेरे ब्लॉग पर आप आए, स्वागत है बंधु !

वन्दना ने कहा…

vaah......bahut hi gahri baat kah di.

योगेश शर्मा ने कहा…

Dilip bhai , naahak chintaa mat karein ,waise isee mein hee bhalaai hai mere khyaal se bandar agar firse insaan banegaa to kram ke hissab se fir satyug aayegaa bhale hee todee der ko hee sahee ....jab tak poora bigregaa tab tak shushti aur chal jaayegee ...lekin bahut khoob ...bahut gehree rachnaa hai

Apanatva ने कहा…

ek sunder vyng makhmal me lapet kar..........
aaj ke insan kee soch aur neeyat par sahee kataksh.........

एक टिप्पणी भेजें