नमक स्वादानुसार.......(एक और लघुकथा..)

Author: दिलीप /




आसमान मे टिमटिमाते तारे, वो उधार की रोशनी से चमकता चाँद भी वो रोशनी नही दे पा रहे थे, जो केरोसीन भरी एक शीशी मे लटकी बाती जल जलकर उस छोटे से खंडहर को दे रही थी...पन्नी से ढकी छत... हवाओं के थपेड़ों से उनकी फट फट की आवाज़....पर कोने मे सजी ईंटों का बोझ और उन ईंटों मे छिपी कुछ उम्मीदों का बोझ उस पन्नी की उच्छृंखलता पर लगाम लगाए हुए थे...और उन थपेड़ों मे लहराती लौ में चमकती दो उम्मीदें उस खंडहर को घर बना रही थी...दिन भर की मेहनत...और उससे हुई पसीने रूपी कमाई...अब मजदूरो की यही तो कमाई होती है दूसरी कमाई किसकाम की...1 रुपये कमाने मे 1 लीटर पसीना तो बह ही जाता होगा, पर उससे 100 ग्राम तेल भी नही मिलता...आँखों मे सन्नाटा था...पर उस घर के सन्नाटे को एक ट्रांजिस्टर तोड़ रहा था...पर कम्बख़्त वो ट्रांजिस्टर भी खड़बड़ खड़बड़ करके बीच बीच मे बेताला हो जाता था...उस खड़बड़  में साँवले हाथो की चूड़ियों की खन खन और उसके पति की खाँसी की ठन ठन ताल से ताल मिला रहे थे…फिर उस औरत ने चूल्‍हे की ओर रुख़ किया...चूल्हा क्या बस वही था जो कभी कभी बच्चे खेल खेल मे ईंटों से बना देते हैं...उसी मे कुछ अधज़ली खामोश लकड़ियाँ पड़ी थी...वो भी सोचती होंगी कम्बख़्तों रोज़ थोड़ा थोड़ा जलाते हो कभी पूरा ही जला दो...पर वो भी कहें क्या जानती हैं वो पूरा जल गयी तो जाने इस चूल्‍हे का आँगन कब तक सूना रहेगा...सीली माचिस की डिब्बी मे दुबकी बैठी एक तीली उन साँवले हाथों ने निकाली...फिर खाली मन और गीली माचिस मे कुश्ती शुरू हो गयी...तभी ट्रांजिस्टर से मलाई कोफ्ता बनाने की विधि बताई जाने लगी...अब ट्रांजिस्टर बेचारा आदमी तो है नहीं कि अमीर ग़रीब मे फ़र्क कर पाए...पर यहाँ तो कुछ अजीब ही हुआ...जाने उन दोनो को क्या सूझी दोनो ही ट्रांजिस्टर के करीब आके सुनने लगे... ट्रांजिस्टर कुछ कुछ बकता रहा...और दोनो ध्यान से सुनते रहे....फिर अंत मे आवाज़ आई..."नमक स्वादानुसार"...दोनो ने एक दूसरे की तरफ देखा, फिर मकड़ी के जाले लगे कुछ टूटे डब्बों की ओर...कुछ औंधे मुँह पड़े थे...जैसे मुँह चिढ़ा रहे हो की बड़े आए मलाई कोफ्ता खाने वाले… पर वो क्यूँ चिढ़ते उन्हे तो इसकी आदत थी...दोनो खूब ज़ोर से हँसे...चूल्‍हे की आग मे जलकर तवे ने कुछ रोटियों को जन्म दिया....फिर कुछ खाली डब्बों को खंगालने की कोशिश हुई...फिर आराम से बैठकर बड़े प्यार दोनो ने वो रोटियाँ मलाई कोफ्ते के साथ खाई…क्या बात करते हो ग़रीब और मलाई कोफ्ता....हाँ मलाई कोफ्ता ही तो था..... बस उसमे न मलाई थी न कोफ्ता...था तो बस..."नमक स्वादानुसार".... ट्रांजिस्टर की आवाज़ भी धीमी होकर बंद हो गयी....शायद अब उसके पास भी कहने को कुछ नही बचा था.... 

28 टिप्पणियाँ:

kunwarji's ने कहा…

वाह!........नमक स्वादानुसार बाकी हालातानुसार!

बहुत बढ़िया दिलीप भाई...

कुंवर जी,

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बेहद उम्दा !! बहुत नजदीक से देखा हुआ लगता है सारा आलम !!

बेनामी ने कहा…

kya baat hai dileep bhai..
bahut khub....
behtareen laghukatha.....

निर्झर'नीर ने कहा…

hmmmmmmm

kahani kya hai chalchitra hai .

pata nahi ye namak bhi kab tak ?
swadanusaar rahega

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

वाह...वाह..!

यह लघुकथा तो बहुत बढ़िया रही!

बेनामी ने कहा…

meri nayi rachna ko aapka intzaar hai....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

जब तक नमक है कम से कम स्वादानुसार खाया तो जा सकता है...अब उसे मलाई कोफ्ता कह लो या बटर पनीर...

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

बेहद मार्मिक ! आखिर नमक ही काम आया !

Udan Tashtari ने कहा…

नमक स्वादानुसार!


बहुत मार्मिक चित्रण किया है इस लघुकथा के माध्यम से.
बधाई.

nilesh mathur ने कहा…

दिलीप जी, कमाल कर दिया आपने! बेहतरीन रचना!

arvind ने कहा…

bahut badhiya...vaah...namak swaadaanusaar.kamaal ki rachna.speciaaly ek line....aag me jalakar tave ne kuch rotiyon ko janm diyaa....vaah.

Rajesh Gupta ने कहा…

प्रभावशाली अभिव्यक्ति- एक इंजिनियर ही इतना सटीक हो सकता है ...

कडुवासच ने कहा…

...बहुत खूब ... लाजवाब अभिव्यक्ति !!!

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

bahut achchhi baat likhi dilipji
aabhar

ZEAL ने कहा…

aapne rula diya aaj.

नरेश चन्द्र बोहरा ने कहा…

बहुत अच्छी. भावनात्मक और वास्तविकता को दर्शाती हुई कहानी.

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

बहुत बढ़िया, सार गर्भित कथा, हाँ बीच-बीच में डायलोग भी अच्छे सेट किये है !

Sulabh Jaiswal "सुलभ" ने कहा…

ये ऑडियो विडियो के साथ कथा है... डायलोग भी खूब है.

पर सच में मर्मस्पर्शी है.

RAJNISH PARIHAR ने कहा…

क्या बात है सर जी...कमाल की लघुकथा!!!वैसे सच भी है...

दिलीप ने कहा…

bas ye ek chota sa prayas tha...na hi dukhad ant chahta tha na sukhad isliye kuch aisa likha...

दिलीप ने कहा…

aap sabhi ka haardik Abhaar...

Urmi ने कहा…

वाह बहुत खूब! बढ़िया लगा! सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ बेहतरीन प्रस्तुती!

sonal ने कहा…

bahut badiyaa ..

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

ध्यान से देखने पर ज़रूर मालूम चलता कि वो नमक भी उन दोनों के प्यार का रहा होगा..नमक इश्क का.. क्योंकि ये कमबख्त इश्क भी अमीरी गरीबी कहाँ देखता है..बस चार कमरे का दिल ढूंढता है और समा जाता है... बहुत अच्छी रचना..

दिलीप ने कहा…

Shukriya doston

स्वप्निल तिवारी ने कहा…

ek samanya si ghatna ko rochak tareeke se kaha hai dost... very well crafted.. :)

Unknown ने कहा…

Garib ke jajwaton se mat khelo sir....... per ant main नमक स्वादानुसार bahut khoob......

एक टिप्पणी भेजें