हम मोहब्बत का छप्पर उठाते रहे...

Author: दिलीप /


वो दीवार हरदम ही ढाते रहे...
हम मोहब्बत का छप्पर उठाते रहे....

जब वो कह के गये थे, मिलेंगे नहीं...
फिर भला क्यूँ वो ख्वाबों में आते रहे...

एक रिश्ते की यूँ भी कहानी रही...
वो निभा न सके, हम निभाते रहे...

याद पी जब भी मैने तो कड़वी लगी...
थोड़ा आँखों का पानी मिलाते रहे...

अनसुनी कर गये पेड़ की सिसकियाँ...
वो दो नामों में मेरा मिटाते रहे...

है अजब मेरी नज़मों का देखो असर...
हम सिसकते रहे और वो गाते रहे...

हमको यादों मे अपनी किया दफ़्न पर...
ज़िक्र मेरा निगाहों मे लाते रहे...

चाँद होता रहा राख, जलता रहा...
बेख़बर थे वो परदा हटाते रहे...

9 टिप्पणियाँ:

Arvind Mishra ने कहा…

क्या खूब -अहसासों का लफ्जों में पिरोया जाना !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बेहतरीन, निर्झर के झर झर प्रवाह सी..

सदा ने कहा…

एक रिश्ते की यूँ भी कहानी रही...
वो निभा न सके, हम निभाते रहे...

याद पी जब भी मैने तो कड़वी लगी...
थोड़ा आँखों का पानी मिलाते रहे...
भावमय करते शब्‍दों का संगम ...

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

एक रिश्ते की यूँ भी कहानी रही...
वो निभा न सके, हम निभाते रहे...

बहुत बढ़िया भावपूर्ण रचना अभिव्यक्ति ... आभार

kshama ने कहा…

Harek pankti behtareen!

बेनामी ने कहा…

बहुत खुबसूरत है ग़ज़ल।

शारदा अरोरा ने कहा…

bahut sundar , aisa lagta hai khoon me gazal daud rahi hai.

Mahi S ने कहा…

वाह!! बहुत खूब...

ह‌िमानी ने कहा…

एक रिश्ते की यूँ भी कहानी रही...
वो निभा न सके, हम निभाते रहे..
हर शेर एक कहानी है
शायद तुम्हारी हो शायद मेरी है

एक टिप्पणी भेजें