ये बस महलों की है दुनिया, यहाँ फुटपाथ मरते हैं..

Author: दिलीप /


मेरी आँखों से ये आँसू, गिरा करते थे पहले भी...
तुम्हारी याद से लेकिन वो अब मोती मे ढलते है...

वो कहते हैं कि सूना घर है, इसको बेंच दो लेकिन...
किसी की याद के साए, अभी भी घर मे रहते हैं...

वो कहते हैं की रो लो एक दिन, फिर भूल जाना सब...
उन्ही के गम के परबत हैं ये धीरे से पिघलते हैं...

मैं कैसे काट दूं आँगन के इस बूढ़े से बरगद को...
अभी इसपर गिलहरी के कई बच्चे उछलते हैं....

वहाँ हर आदमी मुझको मिला हड्डी के ढाँचे सा...
वहाँ चूल्‍हे नही जलते वहाँ बस दिल सुलगते हैं...

ढके हैं तन यहाँ पर सब, शहर मे शर्म बाकी है...
अभी पिछड़ा हुआ है ये, यहाँ सिक्के भी चलते हैं...

वो चिड़िया कह रही थी रात मे, बच्चों से धीरे से...
शहर की ओर मत जाना, वहाँ इंसान रहते हैं...

बहुत खोजा है मैने प्यार को तेरे शहर मे पर...
मगर अफ़सोस सबके दिल यहाँ खाली निकलते हैं....

मुझे कहते है सारे, मुल्क अब आज़ाद है मेरा...
भगत जैसे अभी भी क्यूँ, मगर फाँसी पे चढ़ते हैं...

तुम्हारा घर हरा है तो वही सावन भी आएगा...
ये बस महलों की है दुनिया, यहाँ फुटपाथ मरते हैं..

23 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

vidya ने कहा…

मैं कैसे काट दूं आँगन के इस बूढ़े से बरगद को...
अभी इसपर गिलहरी के कई बच्चे उछलते हैं....
बहुत बढ़िया...
आप कमाल का लिखते हैं.

kunwarji's ने कहा…

राम रामजी...

"मैं कैसे काट दूं आँगन के इस बूढ़े से बरगद को...

अभी इसपर गिलहरी के कई बच्चे उछलते हैं.."

हर पंक्ति दिल को छूती हुई सी गुजरी....

करारे वयंग्य और मासूम सी भावनाओं का संग यहाँ प्रस्तुत किया आपने...

कुँवर जी,

Prakash Jain ने कहा…

Hamesh ki tarah Benamoon, behtareen...Adbhoot..

ek se ek sher....

रश्मि प्रभा... ने कहा…

वो कहते हैं कि सूना घर है, इसको बेंच दो लेकिन...
किसी की याद के साए, अभी भी घर मे रहते हैं...
waah

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

वत्स!
अभी तुम्हारी सारी कवितायें पढ़ गया... सिर्फ पढ़ा ही नहीं, सुनाता चला गया अपने मित्र चैतन्य आलोक को (संवेदना के स्वर).. मेरी आवाज़ में तुम्हारी कवितायें और भी खूबसूरत लगती हैं.. :)
और मैंने उनसे यही कहा कि कुछ लोग मेरे दिल में रहते हैं..और उनमें से एक तुम हो!! तुम्हारी कविता पर कमेन्ट करना मेरे बस की बात नहीं.. जिसे दिल से महसूस करो, उसके बारे में कुछ कहा जा सकता है क्या जुबान से??

दिलीप ने कहा…

ye mera bhhagy hai ki aap sabka itna ashirwaad milta hai...yunhi samhale rahiye...

मनोज कुमार ने कहा…

मुझे कहते है सारे, मुल्क अब आज़ाद है मेरा...
भगत जैसे अभी भी क्यूँ, मगर फाँसी पे चढ़ते हैं...

इस शे’र को पढ़ने के बाद सलिल भाई का कमेंट ...म्हारी कविता पर कमेन्ट करना मेरे बस की बात नहीं.. जिसे दिल से महसूस करो, उसके बारे में कुछ कहा जा सकता है क्या जुबान से??
भी मेरा है।

ASHOK BIRLA ने कहा…

bahut hi khubsurati se darsan ko kavyanjali me ikattha kiya hai ...bahut umda rachna

kshama ने कहा…

मैं कैसे काट दूं आँगन के इस बूढ़े से बरगद को...
अभी इसपर गिलहरी के कई बच्चे उछलते हैं....

वहाँ हर आदमी मुझको मिला हड्डी के ढाँचे सा...
वहाँ चूल्‍हे नही जलते वहाँ बस दिल सुलगते
Waqayee gazab kee panktiyan hain!

Rakesh Kumar ने कहा…

मैं कैसे काट दूं आँगन के इस बूढ़े से बरगद को...
अभी इसपर गिलहरी के कई बच्चे उछलते हैं....

गजब,लाजबाब.
बहुत ही उम्दा लगी आपकी प्रस्तुति.
दिल को झकझोरती हुई.

नववर्ष की आपको बहुत बहुत शुभकामनाएँ.

मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.

रजनीश तिवारी ने कहा…

हर शेर लाजवाब...नए वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

पद्म सिंह ने कहा…

एक एक शेर अद्भुद.... वाह !! वाह!! वाह!!

सतीश सक्सेना ने कहा…

मैं कैसे काट दूं आँगन के इस बूढ़े से बरगद को...
अभी इसपर गिलहरी के कई बच्चे उछलते हैं...

आपकी रचनाएँ अपना प्रभाव छोड़ने में समर्थ हैं ! बधाई !

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

मैं कैसे काट दूं आँगन के इस बूढ़े से बरगद को...
अभी इसपर गिलहरी के कई बच्चे उछलते हैं....


वहाँ हर आदमी मुझको मिला हड्डी के ढाँचे सा...
वहाँ चूल्‍हे नही जलते वहाँ बस दिल सुलगते हैं...
अति सुन्दर !

Anita ने कहा…

वो कहते हैं की रो लो एक दिन, फिर भूल जाना सब...
उन्ही के गम के परबत हैं ये धीरे से पिघलते हैं...

बहुत सुंदर पंक्तियाँ !

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…

behad sundar rachna...aik aik sher me bimb bahut khoobsoorat.. Umda...

दिलीप ने कहा…

bahut bahut dhanywaad doston

Sanju ने कहा…

बहुत बेहतरीन..........
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बेहतरीन..

Ranjana ने कहा…

बेहतरीन लेखन....शुभकामनाएं

ashu ने कहा…

kya baat hai bhai sahab aap to chha gaye

ashu ने कहा…

kya baat hai bhai sahab aap to chha gaye

एक टिप्पणी भेजें