विनती तुझसे है मेरी,हे मन! ठहर, विश्राम कर ले...

Author: दिलीप /


मोहिनी माया के चंगुल मे फँसा, बिखरा, बँटा,
मूल कर्तव्यों की रेखा से कभी का तू हटा,
अनवरत संघर्ष का क्रम है सतत बस चल रहा,
भाग्य पर सब छोड़ के तू क्यूँ स्वयं को छल रहा,

तू स्वयं की सोच से भीषण कोई संग्राम कर ले,
विनती तुझसे है मेरी,हे मन! ठहर, विश्राम कर ले..

बाण तेरी शक्ति के सब क्षीण होकर गिर रहे है,
देख घन दुर्भाग्य के चहु ओर तेरे घिर रहे है,
पथ जिसे तू चुन चुका है, उससे तू अज्ञात है,
तू जिएगा या मरेगा, क्या तुझे यह ज्ञात है?

क्षण भर तनिक दुविधा का अपनी, बैठ कर संधान कर ले,
विनती तुझसे है मेरी,हे मन! ठहर, विश्राम कर ले..

चार दिन जीवन के थे और दो तो यूँही कट गये,
वासना व लालसा मे वो बराबर बँट गये,
पुष्प जो मुरझा चुके, वो ना खिलेंगे अब कभी,
पर तेरे पुरुषार्थ क्या बिकते रहेंगे सब यूँही,

ज्ञान चक्षु खोल के तू स्वयं का कल्याण कर ले,
विनती तुझसे है मेरी,हे मन! ठहर, विश्राम कर ले..

ले सुदर्शन चक्र कर मे, वेदना सब छिन्न कर,
तू स्वयं को विश्व के सब प्राणियों से भिन्न कर,
लक्ष्य कोई सार्थक सा अब हृदय मे साध ले,
तू भटकती सोच को एकाग्र होकर बाँध ले,

तू त्याग कर सब मोह अब नर से स्वयं को राम कर ले,
विनती तुझसे है मेरी,हे मन! ठहर, विश्राम कर ले..

26 टिप्पणियाँ:

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

Bahut khoob , Baant ko bant kar deejiye

M VERMA ने कहा…

लक्ष्य कोई सार्थक सा अब हृदय मे साध ले,
तू भटकती सोच को एकाग्र होकर बाँध ले,
ऐसा लिखने वाले की लेखनी को सलाम

sandeep sharma ने कहा…

भगत सिंह को अपना आदर्श मानता हूँ..और उम्मीद है एक दिन अपने राष्ट्र के लिए कुछ न कुछ अवश्य कर सकूँगा....


कविता के साथ-साथ आपके विचार भी बहुत अच्छे लगे...

Archana ने कहा…

तू त्याग कर सब मोह अब नर से स्वयं को राम कर ले,..............बस इसमे बहुत कुछ कह गए............

सुमन'मीत' ने कहा…

काश मन ठहर जाना सिख लेता तो जीन कुछ आसान हो जाता.........

Sonal Rastogi ने कहा…

एक एक शब्द उत्कृष्ट , इसी एकाग्रता का तो अभाव है
ले सुदर्शन चक्र कर मे, वेदना सब छिन्न कर,
तू स्वयं को विश्व के सब प्राणियों से भिन्न कर,
लक्ष्य कोई सार्थक सा अब हृदय मे साध ले,
तू भटकती सोच को एकाग्र होकर बाँध ले,

Jandunia ने कहा…

इस सुंदर पोस्ट के लिए साधुवाद

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर और प्रेरक रचना ...

संजय भास्कर ने कहा…

........प्रेरक रचना ...

दिलीप ने कहा…

sabhi ka is protsahan ke liye abhaar...

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

man ko vishraam kahaan hai
aur yadi vishraam kar leta hai
to shrishti ke aayaam kahaan hain
man chalta rahe bhatakna nahi chahiye
kuvichaar chhod, suvichaar man me chalte rahnaa chahiye
aur aapki kavita ke liye visheshan ke shabd dhoondhne pad rahe hain. umda...

दिलीप ने कहा…

waah Surykaant ji bahut sundar...abhaar...

pawan dhiman ने कहा…

लक्ष्य कोई सार्थक सा अब हृदय मे साध ले,
तू भटकती सोच को एकाग्र होकर बाँध ले,
...ईश्वर करे कि आपकी कलम से इसी प्रकार अच्छी रचनाओ का स्रजन होता रहे

kshama ने कहा…

Bandar ki tarah is daal se us daal pe koodne wala man,gar zara qabu me aa jaye to ham saadhu na sahi,saadhak ban jayen!

Behad paripakv khayalat hain aapke! Abhibhoot hun!

VICHAAR SHOONYA ने कहा…

बहुत सुन्दर . मन बेशक विश्राम करे पर दिल की कलम अनवरत चलती रह

देव कुमार झा ने कहा…

अब नर से स्वयं को राम कर ले..

वाह वाह... कितना सुन्दर लिखा है....

ललित शर्मा ने कहा…

विचारणीय आलेख

आभार

ब्लाग4 वार्ता प्रिंट मीडिया पर प्रति सोमवार

JHAROKHA ने कहा…

सुन्दर---भावनाओं और सन्देश का अनोखा संगम्।

आदेश कुमार पंकज ने कहा…

सुंदर रचना के लिए बधाई

मो सम कौन ? ने कहा…

बहुत सुन्दर और प्रेरक कविता लिखी, दिलीप जी, बधाई।

SKT ने कहा…

आध्यात्म और दार्शनिकता से ओत-प्रोत एक सुंदर कविता! आज की आपाधापी वाली जिंदगी के लिए एकदम प्रासंगिक।

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

bahut suder, dilipji

http://sanjaykuamr.blogspot.com/

nilesh mathur ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना!

वन्दना ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना!

सतीश सक्सेना ने कहा…

मनोभावों की बेहतरीन अभिव्यक्ति, धनवान लेखनी और अच्छा दिल ...शुभकामनायें !

SKT ने कहा…

राजनेताओं को किन्नर कह कर उनकी बेइज्जती क्यों करते हो, दिलीप भाई? प्रस्तुति बेहद सुन्दर! बधाई।

एक टिप्पणी भेजें