हाँ भैया हम तो कुत्ते हैं...

Author: दिलीप /

जानता हूँ ये कविता कि भाषा नहीं है...पर जो कुछ देख रहा हूँ उसके बाद दिल यही कह रहा है...किसी को बुरा लगे मेरी भाषा से तो क्षमा चाहता हूँ...

जहाँ किया मन हवस मिटा ली...
नाम बन गया है बस गाली...
झुंड बना कर घूम रहे हैं....
लोभी अवसर ढूँढ रहे हैं...

मन नंगा तन पे लत्ते हैं...
हाँ भैया हम तो कुत्ते हैं...

रात जागते और नाचते...
टेढ़ी दुम के साथ भागते...
बातों मे तो भौंक रहे हैं...
ऊँची ऊँची छौंक रहे हैं...

डरते ज्यों सूखे पत्ते हैं...
हाँ भैया हम तो कुत्ते हैं...

टूट पड़ें हम मिले जो अवसर...
संस्कार की छीछालेदर...
दूजों की दुम चाट रहे हैं...
अपनों को ही काट रहे हैं...

आदमख़ोरी के छत्ते हैं...
हाँ भैया हम तो कुत्ते हैं...

भला किसी का हो तो रोयें...
हर दामन मे काँटे बोयें...
हैं आवारा ध्येय नही है...
उपकारी मन देह नहीं है...

पेट पुजारी हम जत्थे हैं...
हाँ भैया हम तो कुत्ते हैं...

वो मालिक का साथ निभाए...
हम तो खुद का मान लुटाए....
मर जाते वो रखवाली में...
छेद बनाते हम थाली में...

वफ़ादार वो बिन भत्ते हैं...
हमसे तो अच्छे कुत्ते हैं...

46 टिप्पणियाँ:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आज के परिपेक्ष्य में सटीक रचना ....

राजकुमार सोनी ने कहा…

आपने कुत्तों की भावनाओं को जो स्वर दिया है वह काबिले तारीफ है।
आपको बधाई।

Jandunia ने कहा…

nice

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

सटीक रचना.
मानव के मारे मूक श्वान
सहते बेचारे हैं अपमान!

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

bahut acchhi rachna...kabhi kabhi aisa hota hai na ki koi vipreet kataaksh positive soch lata hai...aur aisa hi kuchh lagta hai aur umeed c jagti hai ki shayed ise padh kar kuchh sudhar ki taraf soch kayam ho.

गिरीश बिल्लोरे ने कहा…

बेहद सहज प्रवाह मयी रचना

'उदय' ने कहा…

...क्या बात है ... प्रसंशनीय !

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

daad deni hogi kalpana shakti kii. bahut khoob!

Sonal Rastogi ने कहा…

कसम खा रखी है हर kavitaa में वाह वाह बटोरने की ... एक और उम्दा रचना

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आज के दौर की सच्चाई लिखी है तुमने ! आभार !

DHEERAJ ने कहा…

इंसानियत को ढूँढती हुई कविता। एक और अच्छी रचना।

nilesh mathur ने कहा…

सचमुच हमसे बेहतर तो शायद कुत्ते हैं

kshama ने कहा…

वफ़ादार वो बिन भत्ते हैं...
हमसे तो अच्छे कुत्ते हैं...
Zabardast kataksh hai...kutta hona shayad behtar hai..usme wafa ka ansh shamil hai...aur kutta kaat le to kuchh ilaaj bhi ho sakta hai..jise aadmi kaat le wo bach nahi sakta..

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

बेहद सटीक रचना!
आज के इस दौर में इन्सान को कुत्ता कहना भी कुत्ते का ही अपमान है...

Udan Tashtari ने कहा…

बात तो एकदम सटीक कही..और कैसे चित्रण कर पाते इस बात का इस अंदाज में. सही है.

'अदा' ने कहा…

आज के परिपेक्ष में सटीक व्यंग है...
भाषा का है...आज कल तो ऐसी ही भाषा का चलन भी है...गुलज़ार साहब ने काफी कुछ आसन कर दिया है :)
शुक्रिया...

मीनाक्षी ने कहा…

नई भाषा का प्रयोग... गहरा व्यंग्य ... प्रभावित करता है..

M VERMA ने कहा…

बहुत सुन्दर

आचार्य जी ने कहा…

आईये सुनें ... अमृत वाणी ।

आचार्य जी

वाणी गीत ने कहा…

मर जाते वो रखवाली में
छेद करते हम थाली में
हमसे अच्छे तो कुत्ते हैं ...
नतमस्तक हूँ आपकी इस नैतिक ईमानदारी के आगे ....!!

Shekhar Kumawat ने कहा…

वाह वाह

धन्यवाद

mukti ने कहा…

मुझे तो हमेशा से लगता है कि कुत्ते हमसे तो अच्छे हैं क्योंकि वो जो हैं वैसे ही दिखते हैं... दोहरा चरित्र नहीं होता उनका, भूख लगती है तो छीनकर खाते हैं पर बिना वजह दूसरों की रोटी नहीं छीनते... और वफादारी में तो उनका कोई सानी नहीं... कुत्ते कभी धोखा नहीं देते... ये बात बिल्कुल सही है---
मर जाते वो रखवाली में
छेद करते हम थाली में
हमसे अच्छे तो कुत्ते हैं ...
एक मारक कविता ...

Prakash Jain ने कहा…

karara kataksh hai dilip ji..
bahut satik...
bahut achchi rachna

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

भला किसी का हो तो रोयें...
हर दामन मे काँटे बोयें...
हैं आवारा ध्येय नही है...
उपकारी मन देह नहीं है...


पेट पुजारी हम जत्थे हैं...
हाँ भैया हम तो कुत्ते हैं...
बहुत खूब दिलीप जी , कुछ-कुछ समझ गया कौन सा दर्द उकेरा है आपने !

राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ ने कहा…

बेहद सटीक व्यंग्य रचना ।
इस पेज पर उपलब्ध सभी
रचनाओं का अवलोकन किया ।
सीधे सरल..साफ़ शब्दों..बिना लाग
लपेट..के कही गयी बात नजर आयी ।
प्रशसनीय प्रस्तुति..।
satguru-satykikhoj.blogspot.com

kunwarji's ने कहा…

खतरनाक बात कही जी.....

नाहक ही गाली बना दिया गया बेचारों के नाम को.....

कुंवर जी,

Asha ने कहा…

सच में कुत्तों कि कद्र एक आदमी से कहीं ज्यादा है | बहुत सही सोहा है |
आशा

Pupadhyay001 ने कहा…

श्रीमान, बहुत खूब लिखते हैं आप. और उससे कहीं ज्यादा अच्छी बात यह है की कवि (लेखक जो भी ) के कर्तव्य को बखूबी समझते हैं. मेरी तरफ से हार्दिक शुभकामनायें ......

वन्दना ने कहा…

हमेशा की तरह सटीक और शानदार कटाक्ष्।

शारदा अरोरा ने कहा…

व्यँग के साथ मुद्दे की बात कह जाना कोई आप से सीखे ...न ताल टूटे न कोई शब्द ही छूटे...वाह-वाह

shikha varshney ने कहा…

सच में अब तो मानव से अच्छे जानवर ही हैं..सटीक रचना .बधाई स्वीकारें.

दिलीप ने कहा…

sabhi mitron ka abhaar mere dil ki awaz me awaz milane ke liye...

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

सटीक रचना...

rashmi ravija ने कहा…

A very hard hitting poem....man ko jhakjhorne waali..

रचना. ने कहा…

नमस्ते दिलीप!! दीदी से आपकी कविताओं के बारे मे जाना... आप बहुत उम्दा लिखते हैं और वे उन्हे उतनी ही अच्छी तरह से पढती हैं. :) आपकी ’दिल की कलम’ से लिखी गईं बातें पढने वाले के दिल के कागज पर छप सी जाती हैं... मैने आपकी कई सारी कविताएं पढी हैं. सीधे और सरल शब्दों मे आप हमारे आस्पास के सामाजिक तथ्यों को अच्छी तरह रखते हैं और हमे सोचने को मजबूर कर पाते हैं..... शुभकामनाओं के साथ -- रचना.

sada ने कहा…

गहरे भाव लिये हुये सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

pawan dhiman ने कहा…

भला किसी का हो तो रोयें...हर दामन मे काँटे बोयें...हैं आवारा ध्येय नही है...उपकारी मन देह नहीं है..... बहुत सुंदर

Mahendra Arya ने कहा…

याद आ गयी एक पुरानी मशहूर रचना - श्वानों को मिलता दूध भात , छोटे बच्चे अकुलाते हैं , माँ की छाती से चिपक चिपक ,जाड़े की रात बिताते हैं .................साधुवाद

स्वप्निल कुमार 'आतिश' ने कहा…

shaandaar tanz kase hain dilip.. sahi hai yaar... mere chote bhai ne bhi kuch aisi hi baten likhi theen .. :) lekin tumne jis tarah likha hai kavyatmak...geetatmak..aur ghatak,,maarak..uska zawaab nahi

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत बढिया लिखा !!

चंदन कुमार झा ने कहा…

सुन्दर कटाक्ष !!!

ashok ने कहा…

bahut khoob
ashok jamnani

संजय भास्कर ने कहा…

बात तो एकदम सटीक कही..इस अंदाज में. सही है.

RUPAK_REWA ने कहा…

Adbhut! Bas sabke man ki baat aapne shabdon me uker di!

सतीश सक्सेना ने कहा…

गज़ब का लिखते हो, लगता है बहुत कुछ देकर जाओगे ! हार्दिक शुभकामनायें !!

Himanshu Mohan ने कहा…

जियो!
अब पढ़ना ही होता रहेगा, टीपने में ज़ोर कम रहेगा। आप अच्छा लिख रहे हैं - सो बार-बार कहने से कुछ फ़ायदा नहीं, अगर कहीं टोकना होगा - तो बताऊँगा।
बधाई!

एक टिप्पणी भेजें