जलियाँवाला बाग़ के शहीदों को श्रद्धांजलि...

Author: दिलीप /

कोई कुछ बोल रहा था...
कोई कुछ सुन रहा था...
हवा सुन्न थी...
कुछ बोल रही थी...
सुन रही थी...
क्यूंकी वही जानती थी शायद...
कि क्या होने वाला है...
कुछ बूट रौन्द्ते चले आए ज़मीं को...
इंसान नहीं बस वर्दी में कुछ कठपुतलियाँ थीं...
एक गोरे ने धागा खींचा...
गोलियाँ चिल्ला पड़ी...
बच्चे बूढ़े औरत थोड़ा चीखे फिर...
खामोश हो गये...
उस बैसाखी ने कितने ही घरों को...
बैसाखियाँ थमा दी...
मैं वो कुआँ था जो हाथ फैला के वही पड़ा था...
कितने दौड़ कर मेरी बाहों में आए...
गोद में लुढ़क गये...
उस दिन सोचा शायद मुझमें जान होती...
इतनी जानें नहीं जाने देता...
तब उन भूरे मुलाज़िमों से गोलियाँ खाई थी...
आज गालियाँ खाते हैं...
हिन्दुस्तान आज़ाद हुआ...
सच में क्या...
मुझसे तो उन लाशों का वो बोझ...
किसी ने आज़ाद नहीं किया...
मैं तो अब भी वहीं पड़ा हूँ...
बस एक तख़्ती लग गयी है...
उस हादसे के बारे में...
तख़्ती लगवाते..
बस एक वादा कर देते...
वैसे हादसे अब नहीं होंगे...
पर कहाँ...
भूरे ज़्यादा ज़ालिम निकले...
घर फूँकते हैं...
अरमान जलाते हैं...
ख्वाबों को क़त्ल करते हैं...
मुस्तक़बिल धज्जी धज्जी कर देते हैं...
अब बस भी करो हमें फिर आज़ादी चाहिए...
असली वाली...

10 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज शनिवार (13-04-2013) के रंग बिरंगी खट्टी मीठी चर्चा-चर्चा मंच 1213
(मयंक का कोना)
पर भी होगी!
बैशाखी और नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ!
सूचनार्थ...सादर!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मार्मिक चित्रण..बद्ध अवस्था..उबलता आक्रोश..

ARUN SATHI ने कहा…

मार्मिक अभिव्यक्ति

सरिता भाटिया ने कहा…

बहुत ही मार्मिकता को दर्शाती हुई रचना ,समझ नहीं आता आह कहुं या वाह ,बेहतरीन चित्रण के लिए बधाई
''नवरात्र ''भाग 1

शारदा अरोरा ने कहा…

उस बैसाखी ने कितने ही घरों को...
बैसाखियाँ थमा दी...संवेदन-शील ..

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

आज की ब्लॉग बुलेटिन जलियाँवाला बाग़ की यादें - ब्लॉग जगत के विवाद - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

vandana gupta ने कहा…

मार्मिक मगर सटीक चित्रण

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत बढ़िया संवेदनशील प्रस्तुति,आभार

Recent Post : अमन के लिए.

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत ही मार्मिक -बेहतरीन प्रस्तुति
latest post वासन्ती दुर्गा पूजा
LATEST POSTसपना और तुम

Pratibha Verma ने कहा…

बहुत सुन्दर....बेहतरीन रचना
पधारें "आँसुओं के मोती"

एक टिप्पणी भेजें