होगा क्या...

Author: दिलीप /


टुकड़े जो दिल के छोड़े हैं, उनको अपने पास रखो...
चीज़ मेरी ही नहीं रही तो, साथ सज़ा के होगा क्या...

क्यूँ तुम झूठी उम्मीदों को सिरहाने रख जाते हो...
नींद नहीं जब बची आँख में, ख्वाब दिखा के होगा क्या...

गम को बस आँखों तक रखो, दिल को भी न आहट हो...
दिल की खाली तस्वीरों को हार चढ़ा के होगा क्या...

अब तो उम्मीदों की बोरी, सिर पर मेरे मत रखो....
मावस के अंधे को बोलो, चाँद दिखा के होगा क्या...

माना तेरी एक छुवन पत्थर सोना कर सकती है...
राख हो चुका है दिल मेरा, हाथ लगा के होगा क्या...

जो दिन भर इक जंग पेट की, जीने खातिर लड़ता हो...
इश्क़, चाँद, सागर की उसको, नज़्म सुना के होगा क्या ...

मिला मशविरा नज़्म भेज दो, लौट के वो आ जाएँगे...
वो मुझको पढ़ न पाया, तो शेर पढ़ा के होगा क्या...

11 टिप्पणियाँ:

Prakash Jain ने कहा…

wah...jaadoo hai aapki lekhni mein...

adbhoot, behtareen...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मन को पढ़ना सीखो साधो, मन को पढ़ना सीखो..

वाणी गीत ने कहा…

वो मुझको पढ़ ना पाया तो शे'र पढ़ा कर क्या होगा !
वाह वाह !

वन्दना ने कहा…

अब तो उम्मीदों की बोरी, सिर पर मेरे मत रखो....
मावस के अंधे को बोलो, चाँद दिखा के होगा क्या...

बहुत सुन्दर भाव संयोजन

सदा ने कहा…

वाह ... बहुत खूब।

kshama ने कहा…

क्यूँ तुम झूठी उम्मीदों को सिरहाने रख जाते हो...
नींद नहीं जब बची आँख में, ख्वाब दिखा के होगा क्या...
Kya baat kahee hai! Wah!

इमरान अंसारी ने कहा…

बहुत खुबसूरत ।

केतन ने कहा…

जो दिन भर इक जंग पेट की, जीने खातिर लड़ता हो...
इश्क़, चाँद, सागर की उसको, नज़्म सुना के होगा क्या ...


साहब... दिल छू गया ये शेर... वाह ... बस वाह !!

yashoda agrawal ने कहा…

आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 26/12/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

Madan Mohan Saxena ने कहा…

जो दिन भर इक जंग पेट की, जीने खातिर लड़ता हो...
इश्क़, चाँद, सागर की उसको, नज़्म सुना के होगा क्या ...

मिला मशविरा नज़्म भेज दो, लौट के वो आ जाएँगे...
वो मुझको पढ़ न पाया, तो शेर पढ़ा के होगा क्या...
वाह . देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार आपका ब्लॉग रहिये.

सुमन कपूर 'मीत' ने कहा…

जानदार ..हमेशा की तरह

एक टिप्पणी भेजें