वो इक मजदूर था...

Author: दिलीप /


वो इक मजदूर था...
रात भर उसके सिर पर...
नज़मों का बोझ रखता रहा...
चाँद, तारे, सागर, अंबर...
मय, साक़ी, पैमानों के झुंड...
कितना कुछ वो एक नट की तरह....
सिर पर संहालता रहा...
सुबह होने को थी...
कुछ झिझक कर बोला..
कोई ऐसी नज़्म भी रखो न...
जिसमें रोटी के कुछ टुकड़े हो...
या गुड की ढेली...
या कुछ भी न हो तो...
शक्कर का पानी ही सही...
उम्मीद तो होगी कि..
बोझ में कुछ खाने को भी है....
मेरी ग़लती थी, भूल गया था..
वो इक मजदूर था...

13 टिप्पणियाँ:

poonam ने कहा…

बहुत सुंदर

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति... सुप्रभात!

Anupama Tripathi ने कहा…

ओह ....बहुत गहन अभिव्यक्ति .....बहुत अच्छी रचना ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

भावनात्मक बोझों को ढोना और उसे शब्दों में उतार देना उसका कार्य था।

सदा ने कहा…

बेहद सशक्‍त

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (06-10-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आज 06-10-12 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....

.... आज की वार्ता में ... उधार की ज़िंदगी ...... फिर एक चौराहा ...........ब्लॉग 4 वार्ता ... संगीता स्वरूप.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

कुछ झिझक कर बोला..
कोई ऐसी नज़्म भी रखो न...
जिसमें रोटी के कुछ टुकड़े हो...
या गुड की ढेली...

बहुत सुंदर

"पलाश" ने कहा…

bahut khoob, aur sach bhi to hai.........

वन्दना ने कहा…

उफ़ …………कितनी गहरी बात कही है।

Reena Maurya ने कहा…

मजदुर की पीड़ा को बखूबी शब्दों में
व्यक्त किया है..
बहुत बेहतरीन..

इमरान अंसारी ने कहा…

वाह बहुत ही खुबसूरत ।

atul ने कहा…

ऐसे ही गूगल पे घुमते हुए आपके ब्लॉग तक आ गया दिल छु लिया आपने माँ सरस्वती का निवास है आपकी कलम मैं भगवन लंबी उम्र करे आपकी

एक टिप्पणी भेजें